Jun 7, 2010

बढ़ते हुए बच्चे

रे ओ   इधर,   छोटी लहर,  जलधार   बहने  को  चली
आ निश्छ्ला, कल कल किलक, उद्गार कहने को चली

आ चल चली ठुमकी ठुमक, नव पग नवल पदचाप ले
नव कल्पनाएँ सृजन वन,  सह त्रृण तने खुद आप ले
रचने   निविड़ में नीड़,  अपनों  में   खुदी पहचान बन
कृष्णावृता   जंजाल में,  निज का सुलझ रुखसार मन

तन्वी कला,   मंडल प्रभा,   विस्तार   भरने को चली
रे ओ इधर,    छोटी लहर,   जलधार   बहने को चली

किस वेग   बढ़ जाती लता,  लगता अभी झपकी पलक
संवाद मढ़   संवेग चुन,  धुन   धड़कती धक् लक्ष्य तक
अचरज   मृदुल  छुट   पाँव,  हाथों में   ढला फौलाद कब
भय तनिक सा   खटमिठ मना, घर छोडती औलाद जब

लब स्वप्न, उर स्वर उदधि,  सागर   पार करने को चली
रे ओ इधर,   छोटी   लहर,    जलधार    बहने  को चली

झिल मिल बदल परिवेश में,  पथ ढूंढते   पल्लव पथिक
इत समय सम बनते गए, पितु मात कम साथी अधिक
गत   पार कालों की कला,  क्या तब चला   समझा दिए
अब मिल जुला   कैसा बुरा,  या क्या भला   बतला गए

सब  समझ,   नासमझी सहज,   संसार सहने को चली
रे ओ   इधर,   छोटी   लहर,      जलधार बहने को चली


(१) प्रियंकर कहते हैं चालीस से ऊपर की उम्र का यही होता है सो दायित्व का निर्वाह
(२) अलग रंग से चिन्हांकित “पल्लव” अनुप्रास का मारा है – उसके स्थान पर अपने बच्चों के नाम लगा कर पढ़ें तो और भला (या भला ) लगेगा
Post a Comment